Sunday, November 9, 2008

गूगल क्रोम का गुप्त विण्डो कितना गुप्त...

गुप्त पेज पर भी गुप्त नही होती आपकी सुचनाए

गूगल क्रोम गूगल का नया वेब ब्राउजर है जो कई विशेषताओ से युक्तहै। इसकी एक प्रमुख विशेषता है गुप्त विण्डो। क्रोम को यहाँ पर क्लिक कर डाउनलोड कर सकते है।
हा तो हम बात कर रहे थे गुप्त विण्डो की। क्रोम मे गुप्त विण्डो खोलने के लिए टूल्स मे नई गुप्त विण्डो पर क्लिक करना होता है।

इसपर क्लिक कराने पर नई विण्डो इस प्रकार से खुल जाती है।
इस विण्डो के नाम से ऐसा लगता है कि इसमे उपयोग की जाने वाली महत्वपूर्ण सुचनाए गुप्त रहती है। परन्तु वास्तव मे ऐसा नही है। होता यह है की गूगल क्रोम के द्वारा आपके पेज की
सूचने
नही पढ़ी जाती है और ना ही इसे रीसेंट पेज लिस्ट मे डाला जाता है। आपके द्वारा डाउनलोड किए गए फाइल कंप्यूटर मे मौजूद रहेंगे परन्तु आपके
डाउनलोड
हिस्ट्री मे नही दिखेंगे। इसके अलावा कुकी भी सुरक्षित नही किए जाते। परन्तु इसमे खोले गए वेबसाइट द्वारा आपकी सुचनाए अभी भी पढ़ी जा सकती है। वेबसाइट के पास आपके आवागमन का रिकॉर्ड हो सकता है और पेज से भेजी गई साडी सूचने उनके पास जा सकती है।
अतः अगली बार से जब गूगल क्रोम के गुप्त विण्डो मे आप नेट ब्राउजिंग कर रहे हो तो इस बात का ख्याल रखे की आपकी सुचनाए अभी भी सुरक्षित नही है।
और अधिक जानकारी चाहिए:

3 comments:

ab inconvenienti November 9, 2008 at 10:05 AM  

यह तो इन्कोग्निशियो खोलते ही हर बार ब्राउज़र में ही लिखा आता है, आपकी इस पोस्ट में नई बात यही है की आपने इसे हिन्दी में बता दिया

hi November 9, 2008 at 1:54 PM  

very nice Post, Sir je.
Someone has said that, "Privacy stay there where You are Public."
It means you have to again think that The State of Anonymous Surfing has not came yet.

अभिषेक आनंद November 9, 2008 at 2:32 PM  

मैंने कहा कहा कि इसमे कोई नई बात है, परन्तु अगर किसी आम बात को ही अलग ढंग से बता देने से अगर कुछ लोगो में सतर्कता आ जाती है तो इससे किसका बुरा होगा?

Post a Comment

आपके विचारों का स्वागत है

Latest Post

Lattest Comment

English Blog Se

Visitor No.

  © Blogger template The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP