Sunday, December 21, 2008

केबल काटने से इन्टरनेट की धीमी हुई रफ्तार

मिस्र में भूमध्यसागर के नीचे इंटरनेट केबल कटने से यूरोप, मध्य पूर्व और एशिया में इंटरनेट की रफ्तार धीमी हो गई है और टेलीफ़ोन लाइनें बुरी तरह प्रभावित हुई हैं। सिसली और ट्यूनीशिया के बीच समुद्र के अंदर तीन जगहों पर कटी तारें कटी गई हैं। साइबर एक्सपर्ट पवन दुग्गल का कहना है कि पूरी दुनिया में इंटरनेट एक ही सिस्टम पर काम करता है। इसके जरिये दुनिया को जोड़ने के लिए बहुत सारे केबल का इस्तेमाल किया गया है। इसमें तीन केबल कटी हैं तो सिस्टम पूरी तरह बंद नहीं होगा, मगर इसका असर जरूर पड़ेगा।
फ्रांसीसी टेलीकॉम ने कहा है कि तारों की मरम्मत के लिए वह एक जहाज़ भेज रहा है लेकिन इसमें अभी लंबा वक्त लग सकता है। तकनीकी जानकारों के मुताबिक तार समुद्र के नीचे अलग-अलग स्‍थानों पर काटे गए है इसलिए इस खराबी को ठीक करने में करीब दस दिन भी लग सकता हैं। अनुमानतः इसमे 31 दिसंबर तक का समय लग सकता है।

इन्टरनेट के धीमा होने से भारत का व्यापार और अर्थव्यवस्था भी प्रभावित होंगेइसके अलावा आम जिंदगी पर भी असर पड़ने की संभावना हैमुझे ख़ुद इस पोस्ट को लिखने के समय धीमा इन्टरनेट कनेक्शन को झेलना पड़ रहा है। मध्य पूर्व और एशियाई वित्त बाज़ार यूरोपीय बाज़ारों से जुड़े हुए हैं।लेकिन इंटरनेट और फ़ोन सेवा नहीं होने के कारण इन देशों के बीच शेयर बाज़ार में कारोबार करना मुश्किल हो जाएगा।
केबल कटने के कारणों का अभी खुलासा नही हो सका है। माना जा रहा है मिस्र में एलेक्जेंड्रिया केबल स्टेशन केपास एक जहाज के टकराने से चार में तीन केबलों के तार कट गए हैं। फ्रांस की टेलीकाम कंपनी ने कहा है कि मध्य पूर्व में सिसिली और ट्यूनीशिया के बीच कहीं गड़बड़ी है, लेकिन अभी कारणों का पता नहीं लग पाया है। कंपनी ने अपने तकनीकी विशेषज्ञों के एक दल को वहां रवाना कर दिया है।

2 comments:

varun jaiswal December 21, 2008 at 5:32 PM  

इस समस्या ने कल से मुझे भी परेशान कर रखा है |

P.N. Subramanian December 21, 2008 at 6:42 PM  

खबर को पढ़ने के बाद ही हमारा कनेक्शन धीमा हो गया. क्या आकाश मार्ग से संपर्क नहीं बनाए रखा जा सकता. जानकारी के लिए आभार.

Post a Comment

आपके विचारों का स्वागत है

Latest Post

Lattest Comment

English Blog Se

Visitor No.

  © Blogger template The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP